• Thu. Jun 13th, 2024

नेपाल सरकार ने भारतीय सौ रूपए से अधिक का नोट नहीं रखने का दिया सख्त निर्देश,आदेश नहीं मानने पर बढ़ेगी मुश्किलें

ByJyoti Nishad

Oct 2, 2023

महराजगंज। रक्सौल, पूर्वी चंपारण: नेपाल सरकार ने भारतीय सौ रुपये से अधिक का नोट नहीं रखने का सख्त निर्देश दिया है। इसके साथ ही नेपाल राष्ट्र बैंक ने सूचना सावर्जनिक की है, जिसमें भारतीय सौ रुपये से अधिक प्रतिष्ठानों, घरों और पास में नही रखने लेन-देन नहीं करने का आदेश दिया है।

भारतीय रुपये से नेपाल में कारोबार नहीं करने का आदेश दिया है, जिसके बाद से नेपाली व्यापारियों की बेचैनी बढ़ गयी है। नेपाल का सबसे बड़ा आय का स्रोत पर्यटन है। नेपाल आने-जाने वाले 70 प्रतिशत भारतीय पर्यटक हैं।

रक्सौल अनुमंडल से सटे पर्सा और बारा जिला नेपाल के प्रमुख औद्योगिक नगर है। वहां के कल-कारखानों में दक्ष और तकनीकी विभाग में भारतीय लोग कार्यरत हैं, जिन्हें नेपाली मुद्रा में भुगतान होगा, लेकिन इससे लोगों को समस्या होगी।

बॉर्डर पर यह काम बेहद जरूरी

राष्ट्र बैंक नेपाल ने भारत से नेपाल आने वाले और नेपाल से भारत जाने वाले लोगों को पांच हजार अमेरिकी डॉलर की वैल्‍यू की राश‍ि लाने की अनुमति दी है, परंतु भारतीय करेंसी के सौ रुपये से अधि‍क के नोट नहीं होना चाहिए, उससे अधिक लेकर जा रहे हैं तो बॉर्डर पर स्थित नेपाली भंसार (कस्टम) के समक्ष दिखाने होंगे।

घूमने के लिए 25000 ले जाने की छूट

नेपाल से भारत भ्रमण करने वाले व उपचार कराने वाले लोगों के लिए नेपाल राष्ट्र बैंक विभिन्न शहरों के बैंकों को नेपाली मुद्रा को भारतीय मुद्रा में परिवर्तित करने का विशेष परिस्थिति में प्रावि‍धान किया है, जिसमें नेपाली रुपये से 25 हजार रुपये भारत भ्रमण और उपचार, दवा खरीदारी के लिए 50 हजार तक भारतीय मुद्रा देगा।

ये डॉक्‍यूमेंट रखना जरूरी

इसके लिए आवश्यक प्रमाण यानी नेपाली नागरिकता, टिकट, चिकित्सक द्वारा रेफर करने का पुर्जा होना आवश्यक है। कारोबार के के लिए बैंक ड्राफ्ट, विभिन्न भारतीय व नेपाली बैंकों के एटीएम कार्ड के माध्यम से खरीदारी व उपचार के लिए राशि निर्धारित नहीं है।

यंहा बता दे कि करीब पांच वर्ष पूर्व ही भारतीय सौ रुपये से अधिक के नोट लेन देन पर नेपाल ने प्रतिबंध लगा दिया था। इधर, 2000, 500, 200 सौ अधिक रुपये के कारोबार व लेकर चलने पर रोक लगा दिया है। हालांकि, 2000 रुपये के नोट को भारतीय रिजर्व बैंक ने भी प्रचलन से बाहर कर दि‍या है।

Leave a Reply