• Thu. Jun 13th, 2024

नेपाल सीमा से सटे यूपी के इन 7 जिलों में बनेगी नई सड़कें, योगी सरकार ने पास किए 1621 करोड़

ByJyoti Nishad

Oct 2, 2023

महराजगंज। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर भारत- नेपाल बॉर्डर पर 1621 करोड़ की लागत से 64 किमी सड़क बनाए जाने का रास्ता साफ हो गया है। गृह मंत्रालय ने सड़क बनाने को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इसको लेकर तैयारी भी शुरू हो गई है। पीलीभीत में पिलर संख्या 7 बंदर भोज, पिलर संख्या 42 शारदा पुरी बाजार घाट तक 39 किलोमीटर सड़क बनने से दर्जनों गांव के लोगों का सफर आसान होगा।

पीलीभीत से लेकर लखीमपुर खीरी, बहराइच,श्रावस्ती,बलरामपुर, सिद्धार्थनगर और महाराजगंज से लगे इंडो नेपाल बॉर्डर पर सड़क बनाने का काम तेजी से शुरू हो जाएगा।

एनओसी लेने की तैयारी

भारत-नेपाल बॉर्डर सड़क परियोजना के अधिशासी अभियंता संजीव जैन के मुताबिक 2.8 किमी लंबाई का लघु सेतु का निर्माण, पीलीभीत में 37.13 किमी लंबी सड़क के लिए 394. 40 करोड़ की डीपीआर तैयार की गई थी। 31 जुलाई 2023 को भारत सरकार ने अपनी मंजूरी दे दी है। 27 जुलाई को वन्य जीव संस्थान देहरादून के अधिकारियों के बीच वार्ता हुई थी।

इसके बाद सड़क पर 11 अंडरपास की स्वीकृति मिल गई है। सड़क पर वन्यजीवों के आने जाने के लिए 11 अंडरपास बनाए जाएंगे। इसके अलावा एक फ्लाईओवर भी बनाया जाएगा। इन सभी की सैद्धांतिक सहमति के बाद अब वन विभाग के पोर्टल पर आवेदन कर विधिवत ली जाएगी।

परियोजना को जल्द पूरा करने का लक्ष्य

सड़क बनाने की शुरुआत नवंबर 2010 में की गई थी। इसकी डीपीआर तैयार की गई थी। लेकिन वन विभाग की एनओसी न मिलने की वजह से इसका निर्माण रूका हुआ था। मुख्यमंत्री के निर्देश पर चीफ सेक्रेटरी ने इस पूरे मामले में भारत सरकार और विभाग के अधिकारियों से बात की।

इसके बाद गृह मंत्रालय ने सैद्धांतिक मंजूरी दी है। शारदा नदी के पुल पर भी गृह मंत्रालय ने अपनी स्वीकृति दे दी है। इसे डीपीआर में शामिल कर लिया गया है।

भेजी थी शासन को रिपोर्ट

चीफ सेक्रेटरी दुर्गाशंकर मिश्र के बरेली दौरे के बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर मंडलायुक्त सौम्या अग्रवाल ने नेपाल बॉर्डर के गांवों का दौरा कर वहां चौपाल लगाई थी।

गांव वालों ने भारत-नेपाल बॉर्डर पर सड़क के निर्माण की मांग की थी। इसके बाद मंडलायुक्त ने सड़क बनाने में आ रही अड़चन के संबंध में रिपोर्ट शासन को भेजी थी। इसके बाद शासन ने पूरे मामले में संज्ञान लेकर कार्रवाई की। गृह मंत्रालय से लेकर वन विभाग के अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर समस्या का समाधान कराया गया। इस सड़क के बन जाने से नेपाल बॉर्डर के कई गांव के लोगों को आवागमन में काफी आसानी होगी। सड़क न होने की वजह से लोगों को आवागमन में काफी दिक्कत होती थी। एक गांव से दूसरे गांव में जाना पड़ता था। अब नेपाल बॉर्डर पर आसानी से आवागमन सुगम हो सकेगा।

Leave a Reply