• Thu. Jun 13th, 2024

मुख्यमंत्री ने हवाई सर्वेक्षण करने की रिवायत ख़त्म की, स्वयं बाढ़ के पानी में उतर कर लिया राहत कामों का जायज़ा

संगरूर। मुख्यमंत्री की तरफ से बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने की पुरानी रिवायत को ख़त्म करते हुये पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज बाढ़ के पानियों में स्वयं उतर कर राहत कामों का जायज़ा लिया।

मुख्यमंत्री ने सफ़ेद-कुर्ता पायजामा पहना हुआ था परन्तु राहत कामों की निगरानी करने के लिए वह बिना कोई झिझक महसूस किये राज्य सरकार के सीनियर अधिकारियों और ज़िला प्रशासन के साथ बाढ़ के पानी में उतर गए। भगवंत मान बाढ़ से प्रभावित पानी के साथ भरे खेतों में भी गए जहाँ जे. सी. बी. से किये जा रहे काम की स्वयं निगरानी की। घग्गर के साथ लगते प्रभावित इलाकों का जायज़ा लेने के दौरान मुख्यमंत्री ने मौके पर ही अधिकारियों को प्रभावित इलाकों में जुटे रहने के आदेश देते हुये कहा कि लोगों को किसी किस्म की परेशानी नहीं आनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अमरीका, स्पेन जैसे विकसित देशों को भी बाढ़ की समस्या का सामना करना पड़ रहा है और कुदरत ने राज्य में तबाही मचायी है। उन्होंने कहा कि पहाड़ी राज्यों और पंजाब में लगातार पड़ रही बारिश ने राज्य में यह स्थिति पैदा की है। भगवंत मान ने कहा कि उनकी सरकार इस गंभीर संकट की घड़ी में लोगों को बचाने के लिए वचनबद्ध है और इस नेक कार्य के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मानव जीवन सबसे महत्वपूर्ण है जिस कारण इसकी सुरक्षा के लिए हर संभव यत्न किये जा रहे हैं।

उन्होंने निचले और बाढ़ की संभावना वाले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा जिससे उनकी सुरक्षा को यकीनी बनाया जा सके। भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार का फर्ज बनता है कि लोगों को किसी किस्म की परेशानी का सामना न करना पड़े। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति करने का समय नहीं है, बल्कि सभी पंजाबियों को इस कुदरती आपदा के साथ निपटने के लिए एकजुट होना चाहिए।

भगवंत मान ने कहा कि वह अपने से पहले मुख्यमंत्रियों की तरह सर्वेक्षण करने के लिए हैलीकॉप्टर पर चक्कर नहीं लगा रहे बल्कि वह ज़मीनी स्तर पर असली स्थिति का जायज़ा लेने के लिए मैदान में उतरे हैं।

उन्होंने कहा कि स्थिति चिंताजनक है परन्तु फिर भी राज्य सरकार लोगों के नुक्सान को कम करने के लिए हर संभव यत्न कर रही है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि राज्य में भारी बारिश के कारण फसलों, घरों और अन्य नुकसान का पता लगाने के लिए विशेष गिरदावरी करवाई जायेगी।

उन्होंने कहा कि बारिशों के कारण हुए नुकसान का पहल के आधार पर पता लगाने के लिए तुरंत गिरदावरी करने के लिए डिप्टी कमिशनरों को विस्तृत हिदायतें जारी की गई हैं। भगवंत मान ने लोगों को भरोसा दिलाया कि सरकार कुदरत के कहर से उनके हितों की रक्षा के लिए वचनबद्ध है।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को घबराने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि पंजाब सरकार राज्य भर में लगातार बारिश पड़ने के बाद पैदा हुई स्थिति पर बाकायदा नज़र रख कर उनकी सेवा करने के लिए मौजूद है। उन्होंने कहा कि यह एक कुदरती आपदा है और सभी के पूर्ण सहयोग के कारण ही इसका ज़ोरदार ढंग के साथ मुकाबला किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस मुश्किल घड़ी में राज्य सरकार पंजाब के लोगों के साथ खड़ी है और इस संकट से निजात पाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी। भगवंत मान ने लोगों को किसी भी बात की चिंता न करने की अपील की क्योंकि राज्य सरकार पहले ही स्थिति को सुखद बनाने के लिए ठोस प्रयास कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह निजी तौर पर राज्य के हर कोने से मिनट- मिनट पर स्थिति का जायज़ा ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारी बारिश किसी भी व्यक्ति के बस से बाहर है परन्तु लोगों को किसी किस्म की दिक्कत का सामना न करना पड़े, इसके लिए हर संभव यत्न किये जा रहे हैं। भगवंत मान ने कहा कि पहले ही सभी कैबिनेट मंत्री, विधायक और अधिकारी अपने- अपने क्षेत्रों में जुटे हुए हैं और इस मुश्किल घड़ी में जरूरतमंद लोगों तक पहुँच कर रहे हैं।

Leave a Reply