• Thu. Jun 13th, 2024

नेपाल के सर्लाही जिले के मलंगवा में पुनः हिंसा,बिहार से लगी तमाम सीमा चौकियों का बैरियर बंद, आवाजाही पर पूरी तरह रोक 

ByJyoti Nishad

Sep 27, 2023

काठमांडू / नेपाल। पड़ोसी देश नेपाल के मलंगवा शहर में तनाव अब भी बरकरार है। गणेश प्रतिमा विसर्जन को लेकर उत्पन्न विवाद अभी जारी है और इसे शांत कराने में प्रशासन की अबतक की पूरी कोशिश नाकाफी साबित हुई है। शहर के चौक-चौराहे पर भारी पुलिस बल तैनात है। शनिवार की रात फिर एक पक्ष के लोगों ने एक घर में आग लगा दी। दो दुकानें भी फूक डाली। रविवार को प्रदर्शन कर रहे लोगों को मुख्यालय की ओर आने से रोकने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े।

पुलिस की मौजूदगी में प्रतिमा विसर्जन

बता दें कि चार दिन पूर्व रात्रि में गणेश प्रतिमा के विसर्जन के दौरान एक पक्ष के उपद्रवी तत्वों ने दूसरे पक्ष के लोगों पर हमला बोल दिया था। घटना गुरुवार की है। इसके बाद दोनों पक्षों में हिंसक झड़प हो गई थी। भीड़ पर काबू पाने के लिए प्रशासन ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे और बाद में अनिश्चित काल के लिए कर्फ्यू लगा दिया था। बहरहाल, उस रात विसर्जन नहीं हो सका था। अगले दिन यानी शुक्रवार को पुलिस की मौजूदगी में विसर्जन संभव हो सका था। फिर शहर में शांति बहाली के लिए बड़ी संख्या में पुलिस की तैनाती कर दी गई थी। घटना को देखते हुए सुरक्षा को लेकर आज भी भारी पुलिस तैनात है।

तीसरे दिन फिर से एक पक्ष का उपद्रव

घटना के तीसरे दिन शनिवार की रात्रि फिर मंलगवा शहर के वार्ड नंबर चार में दोनों पक्षों में झड़प हो गई। दरअसल, प्रशासन के स्तर से कर्फ्यू में थोड़ी राहत दी गई थी ताकि लोग जरूरी सामान खरीद सकें। इसी दौरान पुनः झड़प हो गई थी। एक पक्ष के उपद्रवी तत्वों ने एक दलित के घर में आग लगा दी। हालांकि प्रशासन ने तुरंत अग्निशमन गाड़ी बुलाकर आग पर काबू पा लिया। इस घटना के बाद पूरे शहर में काफी देर तक अफरातफरी का माहौल बना रहा। पुलिस के मोर्चा संभालने के बाद स्थिति काबू में आया।

बाइक फूंका, आंसू गैस के गोले छूटे

रविवार को दोपहर समाजसेवी नागेश्वर यादव के घर आपसी सद्भाव बनाने को लेकर लोगों को बुलाया जा रहा था। इसी दौरान भीड़ ने एक बाइक को आग के हवाले कर दिया। उधर, जिला मुख्यालय मलंगवा में बढ़ते तनाव को लेकर प्रमुख जिलाधिकारी इंद्रदेव यादव ने पुलिस को कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया है ताकि क्षेत्र में शांति बहाल किया जा सके। इधर, गम्हारिया गांव के सैकड़ों लोग मुख्यालय की ओर कूच कर रहे थे। इस भीड़ को आने से रोकने के लिए पुलिस बल ने करीब 20 राउंड आंसू गैस के गोले छोड़े और भीड़ को रोक दिया। इस कार्रवाई से खफा लोग सड़क पर टायर जला विरोध प्रदर्शन करने लगे।

बॉर्डर से आने-जाने पर रोक

वहीं, मलंगवा मुख्यालय चौक के समीप उपद्रवियों ने दो दुकानों में आग लगा दी, लेकिन पुलिस की मुस्तैदी से आग पर काबू पा लिया गया। उसके बाद प्रशासन ने कहा रुख अख्तियार करते हुए दो दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिया है। दिन भर मलंगवा बाजार बंद रहा। भारत-नेपाल सीमा के रास्ते नेपाल की पुलिस ने आने-जाने पर रोक लगा दिया है। इस रोक का असर दोनों देशों के सीमावर्ती बाजारों पर पड़ रहा है। कारण कि दोनों देशों के लोगों से बाजार में चहल पहल रहती है, जो चार दिनों से देखने को नहीं मिल रही है। प्रतिदिन सैकड़ों लोग भारत से नेपाल और नेपाल के लोग भारतीय क्षेत्र में खरीदारी करने आते हैं। फिलहाल आवाजाही पर रोक से बाजार में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है।

Leave a Reply